Browsed by
Author: Vineet Tiwari

आरोप पत्र से नाम हटाने के संबंध में नंदिनी सुंदर, अर्चना प्रसाद, संजय पराते, विनीत तिवारी व अन्य का संयुक्त बयान 

आरोप पत्र से नाम हटाने के संबंध में नंदिनी सुंदर, अर्चना प्रसाद, संजय पराते, विनीत तिवारी व अन्य का संयुक्त बयान 

हम खुश हैं कि शामनाथ बघेल की हत्या के प्रकरण में छत्तीसगढ़ पुलिस ने आरोप पत्र से हमारा नाम हटाया है. हमें आशा है कि सैकड़ों निर्दोष आदिवासी और वे सभी, जो फर्जी मुकदमों में जेलों में है, उन्हें भी जल्द ही न्याय मिलेगा. हम अपने वकीलों, मित्रों और उन सभी लोगों के आभारी हैं, जिन्होंने इस मामले में हम पर विश्वास जताया, हमारा हौसला बढ़ाया और मदद की। मामले की संक्षिप्त पृष्ठभूमि 5 नवम्बर, 2016 को तोंगपाल थाना में…

Read More Read More

The Crisis of American Empire

The Crisis of American Empire

(Notes on meeting with Anthony Monteiro, scholar and leader of Saturday Free School in Philadelphia, former professor of African American Studies at Temple University) The first question was on the nature of the Trump presidency in its two years. To this, Dr. Monteiro replied that we are in the midst of the greatest political crisis in the history of the United States. The deep state in America is attacking the president and the presidency. Trump’s decision to withdraw troops from…

Read More Read More

Trump Presidency – Much discussed, little understood

Trump Presidency – Much discussed, little understood

The nature of the Trump presidency in the United States has been much discussed but little understood. The American liberal media (including the New York Times, and Washington Post) have been vociferously opposed to the presidency and their international influence has meant that there has been little independent assessment of the meaning of the Trump presidency for the rest of the world. However, it is important that the rest of the world assess Trump’s actions objectively, rather than purely on…

Read More Read More

कृषि संकट की मूल समस्या जमीन और अन्य संसाधनों का गैर बराबर बंटवारा है

कृषि संकट की मूल समस्या जमीन और अन्य संसाधनों का गैर बराबर बंटवारा है

– सारिका श्रीवास्तव एवं एस. के. दुबे .   देश में गहराते जा रहे कृषि संकट से सभी वाकिफ और चिंतित हैं। जोशी-अधिकारी इंस्टीट्यूट ऑफ़ सोशल स्टडीज, दिल्ली एवं नेशनल सेंटर फॉर एडवोकेसी स्टडीज़, पुणे के संयुक्त तत्वावधान में इस मुद्दे पर मध्य प्रदेश के संदर्भ में अपने अनुभवों को बाँटने और इस बारे में एक समझ कायम करने के लिए एक राज्य स्तरीय संगोष्ठी 29 अगस्त 2018 को कला वीथिका, प्रीतमलाल दुआ सभागृह, अहल्या लाइब्रेरी, रीगल चौराहा, इंदौर में आयोजित…

Read More Read More

Land and Caste are Still Root Causes of Dalit Repression

Land and Caste are Still Root Causes of Dalit Repression

Representatives of various people’s organisations meet the family of the Dalit farmer who was burnt alive   July 3, Bhopal. An elderly Dalit farmer was burnt alive at his farm, nearly 70 km away from Bhopal on June 22 morning. The horrific incident occurred at Parsoria village under Himoni village Panchayat of Berasia tehsil of Bhopal district. Kishori Lal Jatav (70) had gone to till his land when he had an altercation with Parsoria’s Tiran Yadav over its ownership. The…

Read More Read More

ज़मीन और जाति अभी भी उत्पीड़न की वजहें

ज़मीन और जाति अभी भी उत्पीड़न की वजहें

समाज से सरोकार रखने वाले विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधि मिले पीड़ित परिवार से भोपाल से करीब 70 किलोमीटर दूर हिमोनी पंचायत के परसोरिया गाँव में जाटव (अहिरवारों) के टोले घाटखेड़ी में 22 जून 2018 को एक सत्तर वर्षीय वृद्ध दलित किसान को पेट्रोल डालकर ज़िंदा जला दिया गया। विवाद  खेती की ज़मीन को लेकर हुआ और पास के खेत मालिक तीरन यादव ने इसी विवाद में अपने परिवारजनों के साथ मिलकर इस वहशियाना घटना को अंजाम दिया। अखबारों में इस घटना की खबर पढ़कर…

Read More Read More